आज मैं देख रहा हूँ

लेटेस्ट पोस्ट
ऐहोल अभिलेख

ऐहोल अभिलेख का हिन्दी भाषांतर

कर्नाटक राज्य के बीजापुर जिले में यह स्थान स्थित है। यहाँ से चालुक्य शासक पुलकेशिन् द्वितीय का लेख मिलता है जो एक प्रशस्ति के रूप में है। इसकी स्थिति 634 ई. है। इसकी रचना जैन कवि रविकीर्त्ति ने की थी। इसकी रचना कालिदास तथा भारवि की शैली पर की गई है। इसमें पुलकेशिन् द्वितीय की उपलब्धियों का वर्णन मिलता है। हर्ष – पुलकेशिन् युद्ध का भी उल्लेख इस लेख में हुआ हैं। यह प्रशस्ति संस्कृत भाषा में लिखी गयी है।

प्राचीन भारत
View All
ऐहोल अभिलेख

ऐहोल अभिलेख का हिन्दी भाषांतर

कर्नाटक राज्य के बीजापुर जिले में यह स्थान स्थित है। यहाँ से चालुक्य शासक पुलकेशिन् द्वितीय का लेख मिलता है जो एक प्रशस्ति के रूप में है। इसकी स्थिति 634 ई. है। इसकी रचना जैन कवि रविकीर्त्ति ने की थी। इसकी रचना कालिदास तथा भारवि की शैली पर की गई है। इसमें पुलकेशिन् द्वितीय की उपलब्धियों का वर्णन मिलता है। हर्ष – पुलकेशिन् युद्ध का भी उल्लेख इस लेख में हुआ हैं। यह प्रशस्ति संस्कृत भाषा में लिखी गयी है।

मध्यकालीन भारत
View All
मुस्लिम साम्राज्य

मुहम्मद गौरी का आक्रमण तथा भारत में मुस्लिम साम्राज्य की स्थापना

गोर, महमूद गजनवी के अधीन एक छोटा सा पहाङी राज्य था। महमूद के निर्बल उत्तराधिकारियों के समय में यहाँ के सरदारों ने अपनी शक्ति का विस्तार प्रारंभ किया। गोर के शंसबानी राजवंश के शासकों ने गजनी पर अधिकार कर लिया। गजनी नगर को ध्वस्त कर दिया गया। 1173 ईस्वी में शहाबुद्दीन मुहम्मद गौरी, जिसका एक नाम मुइजुद्दीन मुहम्मद बिन साम भी था, वहाँ का राजा बना तथा इसके बाद तीन वर्षों तक गोर साम्राज्य का उत्कर्ष होता रहा। मुहम्मद गौरी वीर एवं महत्वाकांक्षी था।

आधुनिक भारत
View All
सूरजमल

भरतपुर रियासत के शासक सूरजमल का इतिहास

भरतपुर जहां स्थित है, वह इलाका सोघरिया जाट सरदार रुस्तम के अधिकार में था। सूरजमल ने सन् 1733 में खेमकरण सोघटिया की फतहगढी पर आक्रमण किया और यहां पर सन 1743 में राजा सूरजमल ने भरतपुर नगर की नींव डाली

साप्ताहिक समसामयिक क्विज़
View All

साप्ताहिक समसामयिक क्विज : मार्च 2020 भाग 4

लोक सभा स्पीकर ओम बिड़ला द्वारा गर्ववती महिलाओं के पोषण हेतु राजस्थान से आरंभ किये गये अभियान का नाम सुपोषित माँ अभियान है।

महत्वपूर्ण दिवस
View All
ओडिशा स्थापना दिवस

1 अप्रैल : ओडिशा स्थापना दिवस

ओडिशा स्थापना दिवस (Odisha Foundation Day)1 अप्रैल को मनाया जाता है। 1 अप्रैल को सन 1936 को ओडिशा को स्वतंत्र प्रांत बनाया गया।