बौद्ध धर्म से संबंधित महत्वपूर्ण प्रश्न एवं उत्तर

बौद्ध धर्म से संबंधित कई प्रश्न परीक्षाओं में पूछे जाते हैं। यहाँ पर हमने उन प्रश्नों के बारे में लिखा है जो कई परीक्षाओं में बार – बार आते हैं। …

Read More

प्रमुख बौद्ध लेखक (बौद्ध साहित्यिक)

कई लेखक ऐसे हुए हैं जिन्होंने बौद्ध धर्म के बारे में कई ग्रंथ लिखे हैं,जिनसे बौद्ध धर्म की  जानकारी प्राप्त होती है। इनसे जानकारी प्राप्त कर बौद्ध धर्म को जानने …

Read More

बौद्ध धर्म की शाखाएँ – हीनयान एवं महायान

भगवान बुद्ध के निर्वाण के 100वर्षों बाद बौद्धों में मतभेद उभरकर सामने आने लगे थे। वैशाली में संपन्न द्वितीय बौद्ध संगीति में थेर भिक्षुओं ने मतभेद करने वाले भिक्षुओं को …

Read More

महात्मा बुद्ध एवं बौद्ध संघ

गौतम बुद्ध का परिचय- बौद्ध धर्म के प्रवर्तक महात्मा बुद्ध थे। इनका जन्म नेपाल की तराई में स्थित कपिलवस्तु के लुम्बिनी ग्राम में शाक्य क्षत्रिय कुल में 563 ई.पू.में हुआ …

Read More

अभिधम्म पिटक क्या है

इस पिटक में प्रशनोत्तर शैली को अपनाया गया है। इसमें बौद्ध दर्शन की जानकारी दी गई है। इसके 7 भाग हैं। बौद्ध धर्म के दार्शनिक सिद्धांतों का संग्रह भी इसमें …

Read More

सुत्त पिटक क्या है

सुत्त पिटक बौद्ध साहित्य के भाग त्रिपिटकों का एक पिटक है। इस पिटक में बौद्ध धर्म के सिद्धांत तथा उपदेशों का संग्रह है। सुत्त पिटक के 5 भाग हैं- दीघनिकाय …

Read More

बौद्ध धर्म में विनय पिटक क्या है

विनय पिटक एक बौद्ध ग्रंथ है। यह तीन पिटकों में से एक है, जो त्रिपिटक बनाते हैं। इस ग्रंथ का प्रमुख विषय विहार के भिक्षु- भिक्षुणियों आदि हैं। इसमें संघ …

Read More

बौद्ध साहित्य त्रिपिटक

बौद्ध साहित्य के दो भाग हैं – 1.) त्रिपिटक 2.) अनुपिटक ( त्रिपिटकों पर आधारित )। त्रिपिटक बौद्ध साहित्य- त्रिपिटक बौद्ध धर्म के पाली भाषा में लिखित प्रमुख ग्रंथ हैं। …

Read More

प्रतीत्यसमुत्पाद एवं द्वादश निदान(12 उपचार )

महात्मा बुद्ध के उपदेशों का सार एवं उनकी सम्पूर्ण शिक्षाओं का आधार स्तंभ उनके सिद्धांत हैं। उनके सभी सिद्धांतों में प्रतीत्य समुत्पाद सबसे महत्वपूर्ण सिद्धांत है,जिसके बिना मनुष्य का जीवन …

Read More

बुद्ध का मध्यममार्ग / मध्यम प्रतीपदा ही मुक्ति का मार्ग है

आषाढ पूर्णिमा को अपने पाँच प्रमुख भिक्षुओं(कौण्डिन्य, भद्दीय, महानाम, अस्सणि, वज्र) को संबोधित करते हुए बुद्ध ने कहा था, भिक्षुओं- जो परिव्रजित हैं, उन्हें दो अतियों से बचना चाहिए। पहली …

Read More